सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

जुलाई 3, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आदमी से बड़ा सदाचारी कोई नहीं

 आदमी से बड़ा सदाचारी  कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी  कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी कोई नहीं उजाड़ के आशियाने दूसरों के  घर अपना बनाता कोई नहीं  लुप्त करे जो प्रजातियां जीवों की  इससे बड़ा स्वार्थी कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी  कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी कोई नहीं ऐसे भी हैं बहुत से आदमी जो पशु प्रेमी कहलाते हैं  आशियाना भी देते हैं खाना भी  कोई पशुओं के लिए गौशाला बनवाता है  तो कोई बेघर मुसाफिरों के लिए घर्मशाला  जो दे छत पे दाना पानी परिंदों को  और छत के नीचे खाना पानी पशुओं और बेघरों को उससे बड़ा रखवाला कोई नहीं  आदमी से बड़ा सदाचारी  कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी कोई नहीं आदमी आदमी को न समझे तो पशु पक्षियों और जानवरों कैसे समझे कहता आदमी अभिमान से आदमी जैसा कोई नहीं सच तो ये है की आदमी से बड़ा पापी कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी  कोई नहीं आदमी से बड़ा सदाचारी कोई नहीं  आदमी चाहे तो आदमी को जानवर से भी बदतर बना दे आदमी को कुत्ता बना दे  कुत्ते को आदमी बना दे  आंबेडकर के नाम पे  इंसानियत का ढोंग करने वालों से बड़ा  ढोंगी कोई नहीं