सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

जून 10, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पागल मुझको कहती ......

पागल मुझको कहती ...... पागल मुझको कहती फिर गया दिमाग तेरा है कोई कसूर नहीं है मेरा कसूर सारा तेरा है कहता तेरा बाप  तू बड़ी सीधी-साधी है  सुन्दर है मेरी छोरी  रूप की रानी है  सीधा बनने का ढोंग करती  तू कितनी सायानी है  करती है गंदे काम तू करैक्टर तेरा ढीला है पागल मुझको कहती फिर गया दिमाग तेरा है  कोई कसूर नहीं है मेरा  कसूर सारा तेरा है  कहने को आदमी  बेलगाम घोडा है पर आज तो बेलगाम हो गयी घोड़ी है  मैं कहूं तो खोरी है तू कहे तो छोरी है घर मैं तमाशा  शहर मैं ढिढोंरा है  तूने मेरे दमन पर बदनामी का दाग ऐसा छोड़ा है पागल मुझको कहती फिर गया दिमाग तेरा है कोई कसूर नहीं है मेरा कसूर सारा तेरा है लेखक  राज गोपाल